समर्थक

बनारसी साड़ियाँ खरींदे केवल यहाँ पर ~

सोमवार, 20 अगस्त 2012

रेडिएशन का असर।



पर्यावरण मंत्रालय के मुताबिक मोबाइल टावर के रेडिएशन से पक्षियों और मधुमक्खियों पर बहुत ही बुरा असर पड़ रहा है। इसलिए इस मंत्रालय ने टेलिकॉम मिनिस्ट्री को एक सुझाव भेजा है। जिसमे एक किमी के दायरे में दूसरा टावर ना लगाने की अनुमति देने को कहा गया है और साथ ही साथ टावरों की लोकेशन व इससे निकलने वाले रेडिएशन की जानकारी सार्वजनिक करने को भी कहा गया है,जिससे इनका रिकॉर्ड रखा जा  सके।
 इन पक्षियों की प्रजातियों पर है सबसे ज्यादा खतरा :- गौरेया, मैना, तोता, कौआ, उच्च हिमालीय प्रवासी पक्षी आदि।


मोबाइल टावर के रेडिएशन से मधुमक्खियों  में कॉलोनी कोलेप्स डिसऑर्डर पैदा हो जाता है। इस डिसऑर्डर में मधुमक्खिया छत्तों का रास्ता भूल जाती है।  


रेडिएशन से वन्य जीवों के  हार्मोनल बैलेंस पर हानिकारक असर होता है जिन पक्षियों में मैग्नेटिक सेंस होता है और जब ये पक्षी विध्दुत मैग्नेटिक तरंगों के इलाक़े में आते हैं तो  इन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। तरंगो की ओवर लेपिंग के कारण पक्षी अपने प्रवास का रास्ता  भटक जाते है। वैज्ञानिको के मुताबिक मोबाइल टावर के आसपास पक्षी बहुत ही कम मिलते हैं। वैज्ञानिको के अनुसार रेडिएशन से पशु-पक्षियों की प्रजनन शक्ति के साथ-साथ इनके नर्वस सिस्टम पर भी बहुत विपरीत असर होता है।

कुछ महत्वपूर्ण तथ्य :-

(1) भारत में  4.4 लाख से ज्यादा मोबाइल टावर हैं।
(2) भारत में पक्षियों की  1301 प्रजातियाँ हैं,जिनमे से 42 लुफ्त होने की कगार पर हैं।
(3) भारत में लगभग 100 से ज्यादा प्रवासी पक्षी आते हैं।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                        

रविवार, 5 अगस्त 2012

गौरेया को बचाओ !

                                     
ये जो पक्षी  है जिसका चित्र आप इस ब्लॉग में देख रहे है! इसका नाम  गौरेया(SPARROW) है! वर्तमान समय में इसकी स्थिति ये हो गयीं है की ये पक्षी अब शहरो  से बिलकुल ही गायब हो चूका है और  अब गौरेया  केवल गावो में ही दिखाई देती है! लेकिन ये सच नहीं है गौरेया शहरो से बिलकुल गायब  नहीं हुई  है ये अभी भी यहाँ पर दिखाई दे जाती है!आय दिन ये किसी की छतो पर , बिजली की तारो पर और कभी-कभी घास के मैदानों पर भी  दिख जाती है! इसे बचाने के लिए भारत सरकार को आगे आना चाहिए जैसे वो बाघों(Tigers) और शेरो(Lions) को बचाने के लिए आगे आयी  है, भारत सरकार न सही राज्य सरकारों को तो गौरेया बचाने के लिए तो आगे आना ही चाहिए!!! आप सब ये ना  सोचे की सरकार ही केवल इनका संरक्षण करके इन्हें बचा सकती है हम लोग यानि आम लोग भी इनको बचाने में सहायता कर सकते है पर कैसे?  सबसे पहले आप अपनी छत या छज्जे पर एक अच्छी-सी  साफ-सुथरी जगह ढूंढे ऐसी जगह खुली ही होगी ऐसा मेरा मानना है  और वहां पर छाव हुई तो वो तो सोने पर सुहागा-होगी क्योंकी इन्हें छावदार जगह पसंद है! फिर आप वहां पर एक मध्यम आकार के दीये में चावल के छोटे-छोटे दाने करके रख दे ( ध्यान रहे चावल के दाने बड़े ना हूँ) और उसके बाद एक मिटटी के बर्तन में इनके पीने  योग्य पानी   रख दे! बस इतना करने से ही हम लोग इनकी बहुत मदद कर सकते है!मेरी बात सुनने के लिए धन्यवाद!

मंगलवार, 31 जुलाई 2012

गौरेया प्यारा नाम

गौरेया कितना प्यारा नाम है । शायद तभी हमारे देश में एक जिले का नाम ओरेया है । माफ़ करिए गा मजाक कर रहा था । गौरेया एक ऐसी चिड़िया है जिसका अस्तित्व वर्तमान समय में बहुत खतरे में है । इसलिए हमे अब नींद से जागना होगा  और इनको बचाने के लिये प्रयत्नशील होना होगा ।इसलिए मेरी बुद्धिमान  लोगो से विनती है की वो इनको बचाने के लिए आगे आये । धन्यवाद ।

लोकप्रिय लेख