समर्थक

सोमवार, 20 अगस्त 2012

रेडिएशन का असर।



पर्यावरण मंत्रालय के मुताबिक मोबाइल टावर के रेडिएशन से पक्षियों और मधुमक्खियों पर बहुत ही बुरा असर पड़ रहा है। इसलिए इस मंत्रालय ने टेलिकॉम मिनिस्ट्री को एक सुझाव भेजा है। जिसमे एक किमी के दायरे में दूसरा टावर ना लगाने की अनुमति देने को कहा गया है और साथ ही साथ टावरों की लोकेशन व इससे निकलने वाले रेडिएशन की जानकारी सार्वजनिक करने को भी कहा गया है,जिससे इनका रिकॉर्ड रखा जा  सके।
 इन पक्षियों की प्रजातियों पर है सबसे ज्यादा खतरा :- गौरेया, मैना, तोता, कौआ, उच्च हिमालीय प्रवासी पक्षी आदि।


मोबाइल टावर के रेडिएशन से मधुमक्खियों  में कॉलोनी कोलेप्स डिसऑर्डर पैदा हो जाता है। इस डिसऑर्डर में मधुमक्खिया छत्तों का रास्ता भूल जाती है।  


रेडिएशन से वन्य जीवों के  हार्मोनल बैलेंस पर हानिकारक असर होता है जिन पक्षियों में मैग्नेटिक सेंस होता है और जब ये पक्षी विध्दुत मैग्नेटिक तरंगों के इलाक़े में आते हैं तो  इन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। तरंगो की ओवर लेपिंग के कारण पक्षी अपने प्रवास का रास्ता  भटक जाते है। वैज्ञानिको के मुताबिक मोबाइल टावर के आसपास पक्षी बहुत ही कम मिलते हैं। वैज्ञानिको के अनुसार रेडिएशन से पशु-पक्षियों की प्रजनन शक्ति के साथ-साथ इनके नर्वस सिस्टम पर भी बहुत विपरीत असर होता है।

कुछ महत्वपूर्ण तथ्य :-

(1) भारत में  4.4 लाख से ज्यादा मोबाइल टावर हैं।
(2) भारत में पक्षियों की  1301 प्रजातियाँ हैं,जिनमे से 42 लुफ्त होने की कगार पर हैं।
(3) भारत में लगभग 100 से ज्यादा प्रवासी पक्षी आते हैं।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                        

9 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी जानकारी दी ....चहकती रहे गौरैया
    दिवाली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. गौरैया घर में न आए तो चहके कौन? सुबह सुबह उन के लिए दाना और पानी दोनों की व्यवस्था है। उन की चहक से ही घर का सूनापन टूटता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. रोचक जानकारी


    यहाँ भी पधारें और लेखन पसंद आने पर अनुसरण करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. आपका भी हार्दिक धन्यवाद। :)

      हटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणी के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद।
गौरेया के लेख पसंद आने पर कृपया गौरेया के समर्थक (Follower) बने। धन्यवाद।

लोकप्रिय लेख